ब्लॉग का क्या मतलब है?

ब्लॉग का क्या मतलब है? ( What Is The Meaning Of Blog In Hindi? ) ब्लॉग अनलाइन राइटिंग का एक रूप है जिसके मदद से लोग अपने ज्ञान को आर्टिकल के फोरम मे लोगों तक शेयर करते है और ये अभी के समय मे सबसे ज्यादा प्रचलित हो गया है क्योंकि लोग अभी अनलाइन काम करना चाहते है। 

ब्लॉग का क्या मतलब है? | What Is The Meaning Of Blog In Hindi?

ब्लॉग को अगर सीधा भाषा मे कहे तो इसके मदद से आप अपना विचार, अनुभव और ज्ञान को इंटरनेट पर शेयर करते है और इसका उपयोग बिजनस, प्रोडक्टस और सर्विस के लिए होता है जिसके मदद से उनके पास ज्यादा से ज्यादा कन्वर्शन आता है। 

ब्लॉग अभी के समय मे सबसे ज्यादा पोपुलर इसलिए हुआ है क्योंकि इसमे आप अपना ज्ञान को शेयर कर सकते है और लोगों तक आसानी से अपना जानकारी दे सकते है, और इसमे आपको ज्यादा समय भी देने की जरूरत नहीं होती है। 

मतलब की थोड़े काम करके अपना ज्ञान को शेयर कर सकते है और इसके लिए भाषा का कोई निश्चित रूप नहीं है की आपको एक ही भाषा मे कंटेन्ट लिखना है बल्कि आप जिस भाषा मे जानकारी रखते है उस भाषा मे आसानी से ज्ञान को शेयर कर सकते है। 

ब्लॉग के मदद से लोग एक दूसरे के साथ कनेक्ट रहते है जिससे एक कम्यूनिटी तैयार होता है और वो आगे जाकर एक अच्छा प्लेटफॉर्म बनता है जहां से आप एक दूसरे के सुझाव जान सकते है। 

ब्लॉगिंग कैसे की जाती है? | Blogging Kaise Ki Jaati Hai?

अगर आप ब्लॉगिंग करना चाहते है तो उसके लिए आपको निम्नलिखित बातों को फॉलो करना होगा जिसके बाद आप आसानी से ब्लॉगिंग कर सकते है –

टॉपिक चुने। 

ब्लॉगिंग करने के लिए सबसे पहले काम ये है की आप अपना जानकारी और Expertise के अनुसार एक सब्जेक्ट या टॉपिक को चुने जिसमे आपको सही सही जानकारी हो और लोगों तक आप आसानी से उसको शेयर कर सकते है। 

टॉपिक सिलेक्ट करेंगे तभी आपको मालूम चल सकेगा की आपके ऑडियंस कौन होने वाले है और इसका फायदा एक और होगा की जब आप डोमेन लेने जाएंगे तो उस समय सही डोमेन आप अपना टॉपिक के अनुसार सलेक्ट कर सकते है। 

अपना ब्लॉग बनाएँ। 

जब आप अपना सब्जेक्ट या Niche सिलेक्ट कर लेंगे तो उसके बाद दूसरा काम आपको ब्लॉग बनाने का समय आ जाता है और इसके लिए आपको दो प्लेटफॉर्म मिलता है पहला ब्लॉगर और दूसरा वर्डप्रेस। आपको प्लेटफॉर्म सिलेक्ट करना होगा और उसके बाद आप ब्लॉग बना ले सकते है। 

लिखना शुरू करें । 

अब जब आप अपना ब्लॉग बना लिए है तो उसके बाद आपको ब्लॉग लिखना शुरू करना होगा जिसके मदद से आप अपना ज्ञान को लोगों तक आसानी से पहुचा सकते है, और ऐसा कीवर्ड पर काम करे जिसमे आपका ब्लॉग जल्दी से रैंक करे। 

और अगर आप ब्लॉग लिखना नहीं जानते है तो आप ऐसा बिल्कुल नहीं सोचे की आप ब्लॉगिंग नहीं कर सकते है बल्कि लिखते लिखते खुद से ही सब आने लगेगा और आप एक अच्छा कंटेन्ट राइटर बन सकते है। 

अपने ब्लॉग को प्रमोट करे।  

एक बार जब आप अपना कंटेन्ट लिखना शुरू करते है तो उसको जगह जगह पर शेयर करना भी जरूरी होता है जैसे की सोशल मीडिया पर ( फेसबूक, इंस्टाग्राम और टेलीग्राम ) पर आप अपना कंटेन्ट को शेयर कर सकते है। 

जिससे की आपके वेबसाईट पर शुरुवाती ट्राफिक आ सके और आपका ब्लॉग जल्दी से रैंक कर सके। और ट्राफिक जब आपके ब्लॉग पर आने लगेगा तो समझिए की आपका ब्लॉग जल्दी ही रैंक करने वाला है। 

क्योंकि जब आप सर्च इंजन के भरोसे बैठेंगे तो पता चलेगा की आपका ब्लॉग 6 महीने बाद या 1 साल बाद रैंक कर रहा है लेकीन जब आप अपना ब्लॉग पर ट्रैफिक लाने लगेंगे तो चांस रहेगा की आपका ब्लॉग जल्दी से रैंक करेगा। 

ट्रैकिंग करते रहे। 

इसका मतलब ये है की आप अपना ब्लॉग मे एनालिटिक्स का उपयोग करे जिससे की आपके ब्लॉग मे कहाँ से लोग आ रहे है और कितना समय लोग रहे है जिससे की आपका ब्लॉग मे क्या चेंज करना है उसका पता चल सके। 

अब जैसे की अगर आप सही होस्टिंग नहीं लेंगे तो आपका ब्लॉग देर से खुलेगा और देर से खुलने के चलते जब आपका ब्लॉग सर्च इंजन मे रैंक करेगा और लोग उसपर क्लिक करेंगे तो आपका वेबसाईट बहुत लेट से खुलेगा और जब लेट से खुलेगा तो लोगों के पास उतना समय नहीं होता है की इंटेजर कर सके तो उसके चलते आपके वेबसाईट से हटकर दूसरे वेबसाईट पर चले जाएंगे। 

तो ये भी नहीं होना चाहिये, नहीं तो आपका ब्लॉग कभी रैंक नहीं करेगा क्योंकि आपके वेबसाईट मे जब ट्राफिक आता है तो वो जितना ज्यादा देर रहेंगे उतना ही आपको फायदा होगा। और आपका ब्लॉग जल्दी से रैंक करेगा। 

क्या हम मोबाइल से ब्लॉगिंग शुरू कर सकते हैं? | Can I Do Blogging With Mobile Phone In Hindi?

आजकल सबसे ज्यादा लोग मोबाईल पर ऐक्टिव रहते है और ऐसे मे अगर वो मोबाईल से ब्लॉगिंग करना चाहते है तो बिल्कुल वो कर सकते है। अभी के समय मे लोग चलते फिरते इंटरनेट का इस्तेमाल करते है और ऐसे मे लैपटॉप को इधर से उधर ले जाना पॉसिबल नहीं होता है। 

तो उस समय मोबाईल ही एक विकल्प होता है जिसके से आप सही से ब्लॉगिंग कर सकते है, और इसका फायदा भी ये है की मोबाईल से आप कहीं भी रहकर ब्लॉगिंग कर सकते है चाहे आप ट्रैवल कर रहे हो या फिर कहीं बैठे हुए है। 

लेकीन इस बात से भी नहीं हटा जा सकता है की अगर आप मोबाइल से ब्लॉगिंग करते है तो उसमे आपको 1 घंटे के काम मे 3 घंटे का समय लगेगा क्योंकि उसमे कंटेन्ट लिखना और उसका सही से SEO करना इत्यादि थोड़ा मुश्किल होता है और उसमे समय लग जाता है। 

और ऊपर से आपको इमेज बनाना होगा तो उसमे भी समय लगेगा, अगर आप थोड़ा ज्यादा समय देकर ब्लॉगिंग मोबाईल से करना चाहते है तो आप आसानी से ब्लॉगिंग कर सकते है। 

ब्लॉगर और यूट्यूब में क्या अंतर है?

ब्लॉगिंग और यूट्यूब दोनों ही एक कंटेन्ट शेरिंग प्लेटफॉर्म है और ये सबसे ज्यादा अभी के समय मे उपयोग कर रहे है क्योंकि इसमे सभी तरह का कंटेन्ट आसानी से मिल जाता है चाहे वो पढ़ाई के चीज हो या फिर एनर्टैन्मन्ट का। 

ब्लॉगर एक प्लेटफॉर्म है जिसको लोग ब्लॉगिंग करने के लिए उपयोग करते है, और इसमे लोग अपना ज्ञान को आर्टिकल का फोरम मे शेयर करते है और इसमे आपको प्रोफेशनल वेबसाईट बनाने के लिए खर्च करना पड़ता है। 

यूट्यूब भी एक कंटेन्ट शेरिंग प्लेटफॉर्म है लेकीन इसमे आपको अपना कंटेन्ट को विडिओ के फोरम मे शेयर करना होता है जिससे की ज्यादा से ज्यादा लोगों का Entertainment हो जाता है और बहुत सारे लोग यूट्यूब को पढ़ने के लिए उपयोग करते है। 

ये भी पढे –

सोशल मीडिया का सही उपयोग कैसे करें?

क्या ब्लॉग लिखना आसान है?

बिजनेस में SEO कैसे काम करता है?

लास्ट वर्ड –

दोस्तों आशा करता हूँ की आपको आज का ब्लॉग पसंद आया होगा जो की ब्लॉग का क्या मतलब है? ( What Is The Meaning Of Blog In Hindi? ) से रिलेटेड है और अगर इससे रिलेटेड किसी तरह के मन मे डाउट हो तो नीचे कमेन्ट जरूर करे।