डिजिटल मार्केटिंग में क्या काम करना पड़ता है? ( Digital Marketing Me Kya Kaam Karna Padta Hai? )

डिजिटल मार्केटिंग में क्या काम करना पड़ता है? : – Digital Marketing Me Kya Kaam Karna Padta Hai?

दोस्तों आज के इस ब्लॉग मे हम जानने वाले है की डिजिटल मार्केटिंग में क्या काम करना पड़ता है? ( Digital Marketing Me Kya Kaam Karna Padta Hai? ) जिससे की अगर आप डिजिटल मार्कटर बनना चाहते है तो उससे पहले उसके बारे मे ज्यादा जानकारी हो की आखिर मे डिजिटल मार्केटर का जॉब रोल क्या है? ( Digital Marketer Job Role In Hindi )

डिजिटल मार्केटिंग में क्या काम करना पड़ता है? ( Digital Marketing Me Kya Kaam Karna Padta Hai? )

डिजिटल मार्केटिंग मे बहुत सारे तरीकों के पद होता है और सभी लोगो का अलग अलग काम होता है और हर आदमी का अलग अलग ज्ञान होता है और उसके अकॉर्डिंग वो काम करता है जो की निम्नलिखित है और आप अपने से देख सकते है की आपका इन्टरिस्ट क्या है और आप किस चीज मे सबसे ज्यादा जानते है।

सोशल मीडिया मार्केटिंग ( Social Media Marketing )

सोशल मीडिया मार्केटिंग मे आप किसी भी बिजनस का प्रमोशन करते है वो भी Ads के द्वारा, चाहे वो फेसबूक के जरिए हो या इंस्टाग्राम के जरिए हो, उसको सोशल मीडिया मार्केटिंग कहते है। जैसे की आपका कोई बिजनस है और आप चाहते है की उसके बारे मे लोकल लोग जान सके।

तो उसके लिए आप सोशल मीडिया मार्केटिंग के मदद ले सकते है जो की आपके लोकल जगह पर Ads को चलाकर आपके बिजनस के प्रमोट कर सकते है। तो आपका एक पद सोशल मीडिया मार्केटिंग के लिए हो सकता है जिसमे आपको बिजनस को सोशल मीडिया के द्वारा प्रमोट करना होता है।

सर्च इंजन आप्टमज़ैशन ( Search Engine Optimization )

इसमे आप किसी भी वेबसाईट का SEO करके उसका ऑर्गैनिक ट्रैफिक लाने मे मदद करते है, जैसे की अगर किसी का वेबसाईट रैंक नहीं कर रहा है किसी कीवर्ड पर तो उसके लिए आप काम करेंगे और उस वेबसाईट को आप उस कीवर्ड पर रैंक करवाएंगे।

जैसे की अभी के समय मे लोग को कुछ ढूँढना होता है तो वो अनलाइन ही सर्च करते है और जिस वेबसाईट के सबसे पहले रैंकिंग मिलता है उसको ज्यादा विज़िट होता है, तो ऐसे मे अगर आपका वेबसाईट रैंक करता रहेगा तो आपके वेबसाईट पर ज्यादा विज़िट आएगा और इससे आपका ज्यादा कन्वर्शन आएगा।

इसमे आपको Local SEO, On Page SEO, Off Page SEO के मदद लेकर आपको काम करना होता है और किसी भी वेबसाईट को रैंक करवाने का काम होता है एक सर्च इंजन आप्टमज़ैशन के पद वाले आदमी को।

ग्राफिक डिजाइनर ( Graphic Designer )

इसमे आप किसी बिजनस या लोग के लिए ग्राफिक डिजाइन करके देते है जैसे की अगर कोई ब्रांड अपना एक पोस्ट डिजाइन करवाना चाहता है तो वो सबसे पहले ग्राफिक डिजाइनर से ही कान्टैक्ट करेगा जिसके बाद ग्राफिक डिजाइनर उसके जरूरत के अनुसार ग्राफिक बनाकर देता है।

इसका उदाहरण ये है की दुर्गापूजा मे हम देखते है की बड़े बड़े ब्रांड बधाइयाँ देते है इत्यादि बहुत सारे पोस्ट करते है, वो सब के सब ग्राफीक डिजाइनर बनाता है और उसका वो चार्ज करता है।

Content Marketing ( कंटेन्ट मार्केटिंग )

इसका मतलब ये है की आप किसी वेबसाईट के लिए ब्लॉग लिखते है, जैसे की अगर किसी बिजनस वेबसाईट को आप खोलिएगा तो उसमे देख पाइएगा की ब्लॉग का एक सेक्शन रहता है जिसमे तरह तरह के आर्टिकल लिखा रहता है और वो इसलिए सिर्फ लिखा रहता है की वो ब्लॉग रैंक करे और वहाँ से ट्राफिक आए तो हमारा बिजनस के बारे मे वो जान सके।

लेकीन उसमे एक बात होता है की वो जिस तरह के इन्टरिस्ट वाले लोग को टारगेट करेगा जो की उसके बिजनस से रिलेटेड हो, जैसे की अगर मेरा एक बिजनस जूते की दुकान का है तो मैं अपने ब्लॉग मे जूते से ही रिलेटेड सवाल को कवर करूंगा ताकि जब कंटेन्ट रैंक करे तो जूते से रिलेटेड लोग ही हमारे वेबसाईट मे आ सके जिससे की हमारा कन्वर्शन बढ़ेगा।

यूट्यूब मार्केटिंग ( YouTube Marketing )

यूट्यूब मार्केटर का काम होता है की किसी भी यूट्यूब चैनल को सही से प्रमोट कर सके और उसका चैनल को ग्रो कर सके, जैसे की यूट्यूब मे भी SEO का सबसे बड़ा काम होता है जिसके हिसाब से आपका यूट्यूब विडिओ रैंक करेगा और आपके विडिओ मे व्यू आएगा, तो यूट्यूब मार्केटर उसी मे मदद करता है।

यूट्यूब का सबसे बड़ा एक फैक्टर है Audience रीटेन्शन, इसका फंडा ये होता है की आपके विडिओ पर जितना इम्प्रेशन पड़ा है उसके अकॉर्डिंग सही मात्रा मे क्लिक होना चाहिए और उसके बाद जो ऑडियंस आपके विडिओ मे आया है वो कितने देर तक आपका विडिओ देखता है उसके बाद आपका विडिओ रैंक करता है।

तो ऐसे बहुत सारे फैक्टर होता है जो की यूट्यूब मार्केटिंग वाले करते है और उसके अलावा आपका यूट्यूब विडिओ या यूट्यूब चैनल को भी Ads के द्वारा प्रमोट करते है जिससे की सब्स्क्राइबर आए और साथ ही साथ आपके विडिओ मे भी व्यू सही से आए।

तो अगर आप डिजिटल मार्केटर बनना चाहते है वो आपके ऊपर बताए गए सभी कार्यों की करना पड़ेगा तभी आप एक डिजिटल मार्केटर बन पाएंगे।

ये भी पढे –

डिजिटल मार्केटिंग में क्या क्या सिखाया जाता है? 

Conclusions

आशा करता हूँ की आपको आज का ब्लॉग पसंद आया होगा जो की डिजिटल मार्केटिंग में क्या काम करना पड़ता है? ( Digital Marketing Me Kya Kaam Karna Padta Hai? ) से रिलेटेड था और अगर इससे रिलेटेड किसी तरह के मन मे डाउट हो तो नीचे कमेन्ट जरूर करे।

Related Posts

3 thoughts on “डिजिटल मार्केटिंग में क्या काम करना पड़ता है? : – Digital Marketing Me Kya Kaam Karna Padta Hai?

Leave a Reply

Your email address will not be published.